Posted By kumard
जो लोग पूछते है मोदी सरकार क्या कर रही है, वो लोग ये आंकड़े देखने के बाद भाग जायेंगे !

केंद्र में जबसे बीजेपी की सरकार आई है तभी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत ने कई बड़े रिकॉर्ड दर्ज किये हैं. देश को लगातार शीर्ष पर पहुँचाने के लिए पीएम मोदी जी निरंतर प्रयास में लगे हुए हैं. आज उन्होंने भारत का नाम देश में ही नहीं बल्कि दुनियाभर में रोशन किया है. मोदी सरकार ने एक ही बल्कि कई क्षेत्रों में बड़े रिकॉर्ड दर्ज किये हैं. अब हाल ही में एक नई रिपोर्ट सामने आई है जिसे जानकर आपको भी मोदी सरकार पर गर्व होगा. इस आंकड़े जानने के बाद विरोधियों के होश उड़ जायेंगे.

Source

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मोदी सरकार देश के सभी गांवों में बिजली पहुँचाने के अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए उसके करीब पहुंच गयी है. बता दें दीन दयाल उपाध्याय ज्योति योजना के अनुसार कुल 18,452 गाँवों में से मात्र 2 दर्जन ही ऐसे गाँव बचे हुए हैं जहाँ बिजली पहुंचना बाकी रह गया है. मोदी सरकार ने यह रिकॉर्ड बनाकर विरोधियों के मुंह पर लगाम लगा दी है. जिन-जिन गाँवों में बिजली पहुंचाई गयी है ये ऐसे गाँव थे जहाँ आजादी के 70 साल बाद भी बिजली नहीं पहुंची थी. जो काम मोदी सरकार से पहले कोई नहीं कर पायी वो मोदी सरकार ने कर दिखाया है.

Source

गौरतलब है कि 15 अगस्त 2015 को राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा था कि बिजली से वंचित सभी 18,452 गाँवों में 1000 दिनों में बिजली पहुँचाने का लक्ष्य रखा था. बता दें मोदी सरकार यह काम मई में पूरा करने जा रही है. आंकड़े उन लोगों के लिए हैं जो ये कहते हैं मोदी सरकार ने कुछ नहीं किया है. जरा वो ये आंकड़े देख लेंगे तो होश खो बैठेंगे. बिजली मंत्रालय के पोर्टल के अनुसार 18,452 गांवों में से 16,783 गाँवों में बिजली पहुंचाई जा चुकी है. बता दें 1204 गाँव ऐसे सामने आये हैं जहाँ कोई नहीं रहता है. इसी के साथ 32 गांवों को चारागाह के रूप में चिन्हित किया गया है. जिसके हिसाब से अब 433 ही ऐसे गाँव बचे हैं जहाँ बिजली पहुंचना बाकी रह गया है. जिसे सरकार मई तक पूरा कर लेगी.

आंकड़े हैरान कर देंगे !

जानकारी के लिए बता दें जो गाँव अभी बचे हैं उसमें से सर्वाधिक 296 गाँव अरुणाचल प्रदेश में मौजूद हैं. इसी के साथ जम्मू कश्मीर में 66, छत्तीसगढ़ में 42, उत्तराखंड में 14 मध्य प्रदेश में सात, ओड़िशा में छह तथा मिजोरम में दो गांव हैं, जहाँ बिजली पहुंचना बाकी रह गया है. जिसके लिए सरकार तेजी से काम कर रही है. वहीँ सरकार ने उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, कर्नाटक, मणिपुर, मेघालय, राजस्थान और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों के सभी गांवों में बिजली पहुंचा दी है. बाकी के 433 गांवों में सरकार अप्रैल के आखिरी दिनों में भी लक्ष्य को पूरा कर सकती है. मोदी सरकार ने बहुत ही कम दिनों में ये कारनामा करके विरोधियों को बोलने लायक नहीं छोड़ा है.

Source